तू ने जो दर्द दिया,

तू ने जो दर्द दिया, उसकी क़सम खाता हूँ
इतना ज्यादा है के, एहसास दबा जाता हूँ
मेरी तकदीर बता, और तकाज़ा क्या है?
ज़िन्दगी और बता तेरा इरादा क्या है ?