दिल से रोये मगर होठों

दिल से रोये मगर होठों से मुस्करा बैठे,
यूँ ही हम किसी से वफ़ा निभा बैठे,
वो हमें एक लम्हा न दे पये
जिस के लिए हम अपनी ज़िन्दगी गवा बैठे……..♥ ♥ ♥

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *


five + = 10

You may use these HTML tags and attributes: <a href="" title=""> <abbr title=""> <acronym title=""> <b> <blockquote cite=""> <cite> <code> <del datetime=""> <em> <i> <q cite=""> <strike> <strong>