कौन पूछता है पिंजरे में बंद पंछीयों को..
याद तो उनकी आती है जो उड़ जाया करते है..