कितना दूर निकल गये रिश्ते निभाते निभाते
खुद को खो दिया हमने अपनों को पाते पाते,
लोग कहते है दर्द है मेरे दिल में,
और हम थक गये मुसकुरते मुस्कराते.