अच्छा दोस्त एक फूल की तरह होता है….
जिसे हम तोड़ भी नहीं सकते और छोड़ भी नहीं सकते……
क्यूंकि तोड़ दिया तो सुक जायेगा और छोड़ दिया तो कोई ओर ले जायेगा…….!